Another trickster act of mainstream media मेनस्ट्रीम मीडिया का एक और चालबाज कारनामा

                    ”   Another trickster act of mainstream media

                   मेनस्ट्रीम मीडिया का एक और चालबाज  कारनामा

              जात नहीं मानता, इसके यह मानी नहीं की धर्म भी नहीं मानता।

                     अक्ल होती तो समझते कि जात और धर्म दोनों एक चीज़ नहीं।
                        विमल मित्र ( साहब बीबी गुलाम)

     अब सदी के महानायक अमिताभ भी मेनस्ट्रीम मीडिया के शिकार हो गए

  सोशल मीडिया  भी  अपनी जिम्मेदारी निभाने की जगह  अफवाहों  को फैलाने में लगा हुआ है

ये एक छोटा सा प्रयास है आपको सच से रूबरू करने का

         I do not believe in casteism, it does not mean that I do not believe in religion.

  If he were intelligent he would have understood that both caste and religion are not the same thing.

Vimal Mitra (Sahab, Bibi, Ghulam)

Now Amitabh, the great hero of the century, also fell victim to the mainstream media

   Social media is also busy spreading rumors instead of fulfilling its responsibility

This is a small effort to introduce you to the truth

आपके पिता महान  लेखक ,और विद्वान्  श्रीं हरि वंश राय  बच्चन  जातिवाद के विरोधी थे धर्म के नहीं

उन्होंने अपना  Sir name  नहीं  लगाया जिससे जातिवाद का बोध होता था

परन्तु अपना नाम नहीं बदला “हरिवंश”

एक लेखक की सोच ,उसके विचार  उसकी writing (लेखनी) मे दिखाई देते हैं

           हरिवंश  जी  की आत्मकथा चार भाग में प्रकाशित हुई थी

                                     1 .  क्या भूलूँ  क्या करूँ

                                    2 .  नीड़ का   निर्माण  फिर

                                     3 . बसेरे से  दूर

                                  4. दशद्वार से  सोपान  तक

मिट्टी का तन, मस्ती का मन, क्षण भर जीवन मेरा परिचय
A body of clay,a mind full of play, life of a moment -that’s me

अगर गिनती  की  जाए तो  आत्मकथा  में  हज़ारों  बार भगवान् के प्रति उन्होनें  श्रद्धा  भाव प्रकट किया है

शायद  ही कोई  पृष्ठ,  जी हाँ शायद  ही कोई  पृष्ठ   हो  जिसमें  उन्होनें हिन्दू  धार्मिक ग्रंथो  का उदाहरण  न  दिया हो

सब को  यहाँ   बताना  संभव  नहीं 

Your father was a great writer and scholar, Shri Hari Vansh Rai Bachchan was opposed to Casteism not religion.

He did not put his sir name which used to indicate casteism.

But did not change his name “Harivansh”

A writer’s thoughts, are reflected in his writing

Harivansh Ji’s autobiography was published in four parts

                                     1 .  क्या भूलूँ  क्या करूँ

                                    2 .  नीड़ का   निर्माण  फिर

                                     3 . बसेरे से  दूर

                                  4. दशद्वार से  सोपान  तक

If counted, he has expressed reverence for God thousands of times in autobiography.

There is hardly any page, yes there is hardly any page in which they have not given the example of Hindu religious books.

Can’t tell everyone here

अपनी आत्मकथा का आरम्भ ही श्री  हरिवंशराय  ने “स्वामी  रामतीर्थ” के  वाक्य  से किया है

          “हमारे छोटे से छोटे अनुभव में मानवता का सारा इतिहास छिपा रहता है “

कैंब्रिज  विश्वविद्यालय  में :

“विदेशी भाषा मे, विदेश मे रिसर्च  करते समय, भी उनकी अपने धर्म में पूरी निष्ठा थी

अतार्किकता (irrationalism) के अंतर्गत मैं  भारतीय  प्रभावों को  भी  रख रहा था , जिसमे उपनिषद भी  अनिवार्यतः  सम्मिलित  थे

पुरोहित स्वामी के सहयोग से  Yeats  ने दस  उपनिषदों  का अनुवाद    किया  ही   था

हफ  का कहना था की हम उपनिषदों को  अतार्किकता (irrationalism)  के अंतर्गत  कैसे रख सकते   हैं –

वे  तो तर्क  की  सबसे ऊँची  उड़ानों  से  उच्चारित  हुए  हैं”

मैंने  निबंध  को  दो  भागों  में  विभाजित  किया

1. 1 Yeats and Mohini Chatterjee and Tagore

2. . Yeats and Purohit Swami and Upanishads

        “एक जुआ के  दांव  पर हम  सब  दीन  लगाय

      लाज  बचे , इज़्ज़त  रहे  राम  जो  देय  जिताय”

      कैंब्रिज में परेशानियों के समय की प्रार्थना

The beginning of his autobiography has been done by Shri Harivansarai with the sentence of Swami Ramathirtha.

“In every little experience of ours is folded the whole of history”

 Cambridge University:

Even while doing research in foreign, and  foreign language, he had full faith in his religion.

I was also placing Indian influences under irrationalism, in which Upanishads were also compulsorily included.

In collaboration with Purohit Swami, the Yeats had translated ten Upanishads.

Huff said that how we keep the Upanishads under irrationality –

They are pronounced with the highest flights of logic

I divided the essay into two

1 Yeats and Mohini Chatterjee and Tagore

2. Yeats and Purohit Swami and Upanishads

      “एक जुआ के  दांव  पर हम  सब  दीन  लगाय

       लाज  बचे , इज़्ज़त  रहे  राम  जो  देय  जिताय”

     Prayer for times of trouble in Cambridge

मुझसे आग्रह किया गया था   ब्रिटिश यूनिवर्सिटियाँ  बहुत  आधुनिक  होकर भी ईसाई  यूनिवर्सिटियाँ हैं।

  उनके हर  कॉलेज  में  चर्च  हैं और उनके साथ पुराने कॉलेजों   स्थापना  धर्मशिक्षा  संस्थानों  के रूप  में  हुई  थी

उस  परंपरा  से वे  जुड़े  ही नहीं , उसके प्रति  सचेत  हैं और कहीं  न कहीं  उसपर गर्व भी करते हैं

उनकी यूनिवर्सिटियों  में भोजन  से  ले  कर graduation  तक  धार्मिक  कर्मकाण्ड  के रूप  में   है

मुझसे पूछा  गया था  डिग्री  आप ईसाई  पद्धति से  लेंगे  या  गैर  ईसाई  पद्धति से

शायद  डिग्री  देते समय  शपथ दिलाई  जाती है  वह  एक  में  Father, Son And holi ghost के  नाम पर  होगी

दूसरे  में  सिर्फ  परमात्मा  के  नाम  पर

अंतर समझ  में  तो  आने  वाला  नहीं  था  फिर  भी  मैंने कहा  था , गैर -ईसाई पद्धति     से

ऐसे इंसान की तारीफ करना तो दूर

  हम मेनस्ट्रीम मीडिया की चालबाज़ियों में उलझ कर  उसके देश विरोधी बयानों का समर्थन ही कर रहें हैं

I was urged that the British Universities are very modern but Christian Universities.

  They have churches in every college and old colleges were established with them as educational institutions.

They are not only associated with that tradition, are conscious of it and are proud of it somewhere.

Their universities range from food to graduation  as a religious ritual.

I was asked whether you would take the degree from Christian or non-Christian method

Probably the oath administered at the time of degree will be in the name of father, son and holi ghost in one

In the second only in the name of God

The difference was not going to be understood, yet I said, in a non-Christian way

Far from praising such a person

   We are only supporting the statements of the anti-country by engaging in the tricks of the mainstream media